योग केवल व्यायाम नही बल्कि विशुद्ध वैज्ञानिक व पुरातन जीवन पद्धति है

योग केवल व्यायाम नही बल्कि विशुद्ध वैज्ञानिक व पुरातन जीवन पद्धति है

योगस्य चितवृती निरूद्ध। योग मन को शांत करता है । भटकाव को रोकता है ।योग केवल व्यायाम नहीं बल्कि विशुद्ध वैज्ञानिक और पुरातन जीवन पद्धति है , जिसे अपना कर मनुष्य तन और मन की शुद्धि पाता है । उक्त बातें पतंजलि पूर्वी चंपारण के प्रभारी योगगुरु आचार्य धर्मेन्द्र विद्रोही ने 6 वे अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर सोशल डिस्तेंसिंग का पालन करते और कराते हुवे योगाभ्यास के क्रम में बताया । कार्यक्रम की शुरुवात दीप जलाकर श्री प्रेमानंद आर्य ने किया । श्री आर्य ने शॉल ओढ़ाकर योग गुरू को सम्मानित किया । कार्यक्रम भजन सिंह कैंपस वीरता चौक में आयोजित था । योगाभ्यास की शुरुवात सूर्य नमस्कार से किया गया । कार्यक्रम में बबलू पासवान, श्याम बाबा , अनवर अली, राधेश्याम कुमार, किशन कुमार, सुरेश जी , विकेश कुमार ,शुभम कुमार इत्यादि लोगो ने भाग लिया ।


यह भी पढ़े : कोरोना वायरस से अमेरिका में हाहाकार! ट्रंप ने पीएम मोदी से मांगी ये खास दवा, कहा- मैं खुद भी खाऊंगा