भारतीय सेनाओं की शहादत का चीन से बदला लिया जाए - आप

भारतीय सेनाओं की शहादत का चीन से बदला लिया जाए - आप
  • आम आदमी पार्टी चीन के मसले पर पूरी तरह से केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ खड़ी है
  • दिल्ली की तर्ज पर देश के शहीद परिवारों को 1 करोड़ की सम्मान राशि दी जाए -

चम्पारण टुडे, न्यूज़ डेस्क।


यह भी पढ़े : रामगढ़वा: रमजान का महीनों का रोजा अपने घरों पर मनाए :थानाध्यक्ष

आम आदमी पार्टी  जिला अध्यक्ष  ऊमेश सिंह  कुशवाहा   ने आज *चीन दुवारा भारतीय सैनिकों पर किये गए हमले के विरोध में बारियारपूर  बाई पास पर आक्रोश प्रदर्शन* में को संबोधित करते हुए कहा कि भारत की जनता भारत और चीन सीमा पर शहीद हुए भारतीय सैनिकों की शहादत का बदला चाहती है। हमारे जवानों की शहादत बेकार नहीं जानी चाहिए। हमारे जवानों की शहादत का भारत की सरकार चीन से बदला ले। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी चीन को मुंहतोड़ जवाब दें।

प्रदेश प्रवक्ता मुन्ना  भाई  ने कहा कि आम आदमी पार्टी इस मसले पर पूरी तरह से केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के साथ खड़ी है। प्रदेश उपाध्यक्ष राकेश kumar साहू  ने कहा -  कल भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर देश के प्रधानमंत्री जी ने एक सर्वदलीय बैठक किया , परंतु अभी भी कुछ सवाल हैं, जिनका देश जवाब चाहता है। पहले केंद्र सरकार ने कहा कि हमारे 3 जवान शहीद हुए हैं, फिर बताया गया कि हमारे 20 जवान शहीद हुए हैं। केंद्र सरकार ने यह झूठ भी बोला कि हमारा कोई भी सैनिक चीन के कब्जे में नहीं है, परंतु परसों मीडिया के माध्यम से यह खबरें आई कि चीन ने 10 भारतीय सैनिकों को रिहा किया। अब प्रधानमंत्री जी कह रहे हैं कि चीन हमारे सीमा के अंदर घुसा ही नहीं, चीन ने हमारी कोई जमीन नहीं हड़पी, तो आखिर चीन से इतने दिनों में तनाव कम करने के लिए क्या वार्ता की जा रही थी, हमारे 20 जवान शहीद हुए, 76 घायल हुए और 10 बंदी बनाये गए थे आखिर किस लिए ।


यह भी पढ़े : स्टेशन पर यात्रियो को कैसे मैनेज करना है बैरेकेटिंग का काम पूरा कर लिया गया है

तिरहुत जोन के अध्यक्ष आनांद पटेल  ने  कहा कि जवानों की शहादत की सही जानकारी न देना, आंकड़े छिपाना, देश को गुमराह करना, सीमा विवाद जैसे मसले पर सही जानकारी देश की जनता को न देना, यह देश की जनता के साथ एक बहुत बड़ा विश्वासघात है। देश की जनता केंद्र में बैठी भाजपा सरकार से सच जानना चाहती है?


प्रवक्ता सुजित  सिंह  ने दिल्ली में हुई ऑल पार्टी मीटिंग में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी को न्यौता न दिए जाने के मुद्दे पर अपना मत रखते हुए कहा कि दिल्ली की जनता द्वारा तीन बार चुने गए मुख्यमंत्री को दिल्ली में ही होने वाली ऑल पार्टी मीटिंग में न बुलाना केंद्र में बैठी भाजपा सरकार की क्षीण मानसिकता को दर्शाता है और पूरा देश उनकी इस घृणित मानसिकता का विरोध करता है ।


यह भी पढ़े : कोरोना संक्रमण को लेकर गर्भवती महिलाएं तनाव से रहें दूर , बरते सावधानियां


मोतिहारी प्रभारी मनोज कुशवाहा  ने कहा कि पूरे देश में सैनिकों की शहादत पर हर  शहीद परिवार को 1 करोड़ की सम्मान राशि दी जाए । आक्रोश  प्रदर्शन में ढ़ाका ,मधुबन ,सुगौली ,कल्याणपूर ,केशरिया ,हरसिद्धी से प्रभारी के साथ सैकड़ो पार्टी कार्यकर्ता शामिल हुए .