मोतिहारी: तेजी से बढ़ रहा है गंडक नदी का जलस्तर, जिला प्रशासन मुस्तैद

मोतिहारी: तेजी से बढ़ रहा है गंडक नदी का जलस्तर, जिला प्रशासन मुस्तैद

रजनीश कुमार उर्फ मिठु गुप्ता की रिपोर्ट


यह भी पढ़े : सीतामढ़ी: अप्पन माटी अप्पन लोग के संस्थापक ने किया परिहार विधान सभा क्षेत्र का मुआयना

मोतिहारी वाल्मीकिनगर बराज से छोड़े गए 4 लाख 36 हजार क्यूसेक पानी से गंडक नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है. नदी पर बने तटबंधों पर पानी का दबाव भी बढ़ गया है. बराज से गंडक में छोड़े गए पानी की जानकारी मिलते ही डीएम और एसपी अरेराज अनुमंडल पहुंचे. जहां लोकनाथपुर गांव में एनडीआरएफ की टीम के साथ उन्होंने गंडक नदी का मुआयना किया.

 


यह भी पढ़े : तुरकौलिया: बिन बुलाए लड़की के घर पहुंचा मंगेतर, लोगों ने करायी शादी।

अलर्ट है जिला प्रशासन

डीएम शीर्षत कपिल अशोक ने बताया कि वाल्मीकिनगर बराज से गंडक नदी में 4 लाख 36 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया है. जिसे लेकर अरेराज एसडीओ के अलावा अरेराज,संग्रामपुर और केसरिया अंचल के अधिकारियो एवं कर्चारियों को अलर्ट पर रखा गया है. साथ ही थाना की पुलिस भी अलर्ट पर है.
डीएम ने बताया कि सिंचाई विभाग के अधिकारियों के अलावा सभी स्तर के पंचायत प्रतिनिधियों के साथ बैठक की गई है. तटबंध के कटाव वाले स्थल पर फ्लड फाईटिंग को तेज करने का निर्देश दिया गया है और एनडीआरएफ टीम की तैनाती भी कर दी गई है. 

 


यह भी पढ़े : बिहार में और मजबूत हुआ मानसून, इन जिलों में भारी बारिश की चेतावनी लगता हो सकती है बारिश.


बता दें कि गंडक नदी के किनारे पुछरिया, मतवाराम टोला, बीन टोली, इजरा समेत कई गांव बसे हुए हैं. वाल्मीकिनगर बराज से छोड़े गए 4 लाख 36 हजार क्यूसेक पानी के कारण गंडक नदी के जलस्तर में लगातार वृद्धि जारी है. नदी के बढ़ रहे जलस्तर को देखते हुए इन गांवों के ग्रामीणों को जिला प्रशासन ने सुरक्षित स्थान पर शरण लेने के लिए कहा है. जबकि चंपारण तटबंध के बाहर के गांवों के लोगों को भी अलर्ट रहने के लिए कहा गया है.