मोतिहारी: मधुबनी घाट का मुखिया सुबोध कुमार के सौजन्य से 5 जोड़ियों की शादी हुई संपन्न...।

मोतिहारी: मधुबनी घाट का मुखिया सुबोध कुमार के सौजन्य से 5 जोड़ियों की शादी हुई संपन्न...।

मिठु गुप्ता कि रिपोर्ट


यह भी पढ़े : राष्ट्रीय वैश्य महासभा ने काली पट्टी बांध मनाया काला दिवस

 

 


यह भी पढ़े : विपुल ने मोरवा का गौरव बढ़ाया राष्ट्रीय स्तर के प्रवेश परीक्षा में आया 92 वां रैंक !

 एक विवाह ऐसा भी 


राजकीय मध्य विद्यालय मधुबनी घाट के प्रांगण में पांच जोड़ियों की शादी अजय कुमार मुखिया सौजन्य से संपन्न हुई .। इस महामारी मे कितने लोग के पास पैसा नहीं रहने के कारण शादी नही हो पा रही है. इसी पर अपने मन में विचार किए ग्राम पंचायत मधुबनी घाट की मुखिया सुबोध कुमार ने 5 जोड़ियों की शादी करवाएं.।


यह भी पढ़े : तीन दिवसीय मछली पालन प्रशिक्षण कार्यशाला का समापन

 

और उस शादी का पूरा खर्चा अपने उठाया और व्यवस्थापक विनोद जयसवाल जिन्होंने बहुत सारे समाजसेवी काम किए हुए हैं उन्होंने इस शादी की पूरी व्यवस्था की जिम्मेवारी लिए । और सभी का शादी  धूमधाम से करवाए मुखिया सुबोध कुमार ने कहा कि समाज की भलाई के लिए अगर हमें प्रत्येक साल ऐसा ही शादी करवाना पड़े तो मैं हमेशा तैयार हूं।


यह भी पढ़े : सोनू पाण्डेय को राजद IT Cell के जिला अध्यक्ष पद पर किया गया मनोनीत

 

ऐसा मुखिया बहुत कम ही देखने को मिल रहा है जिन्होंने अपने पैसे से गहने आप बर्तन इत्यादि सामान को देकर धूमधाम से शादी किए उनकी अनोखी पहल को देखकर लड़कियों की परिवार वाले ने मुखिया जी को अपने मर्सिया मान लिया और कहा कि अगर मुखिया जी की शादी का खर्चा नहीं उठाते तो शायद इस महामारी में हम शादी नहीं कर पाते। बरात में आए हुए अतिथियों का सामान किए और सभी को सैनिटाइजर कर के मास्क बाटे ताकी कोई भी व्यक्ति एक दुशरे कि संपर्क मे न जाए ।और उन्होंने पूरी तरह से सोशल डिस्टेंस का पालन कराते हुए इस शादी को संपन्न कराएं। 


यह भी पढ़े : CM नीतीश ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से लिया कोरोना का अपडेट, जेडीयू नेत्री शालिनी मिश्रा ने पूर्वी चंपारण को लेकर उठाई कई मांग

 


इस शादी का खर्चा अपने निजी पैसा से किए यहां तक कि गहरा और सामान भी अपने पैसों से दिए मुखिया सुबोध कुमार का कहना है कि मैं इस शादी को इसलिए करवा रहा हूं कि ताकि पैसे की वजह से कितने लोगों की शादी नहीं हो पा रही है और मैं अपने खर्चे से शादी करवा कर और भी जनता का पैसा भी बचा दूंगा और पूर्ण का भागीदारी भी बन जाऊंगा । वही व्यवस्थापक विनोद जयसवाल जो मधुबनी घाट निवासी हैं उन्होंने कितनी प्रकार की समाज सेविका किए हुए हैं और उनका कहना है कि समाज की भलाई के लिए मैं सदैव तत्पर हूं