सड़क दुर्घटना में घायलो की बेहिचक करें मदद, अब पुलिस नहीं बनाएगी गवाह...।

सड़क दुर्घटना में घायलो की बेहिचक करें मदद, अब पुलिस नहीं बनाएगी गवाह...।

मिठु गुप्ता कि रिपोर्ट


यह भी पढ़े : बिना राशन कार्ड वाले प्रवासी मजदूरों को भी मिलेगा 10 किलो चावल और प्रति परिवार दो किलो दाल

सड़क दुर्घटना में ज्यादातर लोगों की मौत सिर्फ इसलिए हो जाती है क्योंकि कानून पचड़े में फंसने के डर से लोग सही समय पर उनको मदद नहीं पहुंचा पाते. इसकी सबसे बड़ी वजह है पुलिस द्वारा गवाह बनाने के लिए बाध्य करना और परेशान करना. लोग घायल पीड़ितों की बेहिचक मदद करे इसके लिए बिहार सरकार के परिवहन विभाग ने पहल की है. परिवहन सचिव संजय अग्रवाल ने पहल करते हुए जागरूकता बढ़ाने के साथ-साथ पुलिस के लिए भी कई निर्देश जारी किए हैं.

 


यह भी पढ़े : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज रात 8:00 बजे कोरोना महामारी में लगाए गए लॉकडाउन के बीच फिर देश को करेंगे संबोधन

सभी जिलों के लिए जारी किए गए निर्देश

परिवहन सचिव संजय अग्रवाल ने बताया कि सड़क दुर्घटना के घायल पीड़ितों की मदद करने वाले व्यक्तियों (गुड सेमेरिटन) से संबंधित प्रावधानों की जानकारी व जागरूकता के लिए सभी सभी 38 जिलों के 2000 महत्वपूर्ण स्थानों जैसे सरकारी कार्यालय परिसर, अस्पताल परिसर के मुख्य जगहों पर टीन प्लेट लगाये जा रहे हैं.  


यह भी पढ़े : श्रद्धांजलिः डॉ. श्रवणकुमार गोस्वामी को आखिरी जोहार, 84 वर्षीय हिंदी साहित्यकार का निधन ।


पुलिस के लिए दिए गए हैं ये निर्देश


दुर्घटना में घायल व्यक्तियों की मदद करने वाले मददगार (गुड सेमेरिटन) से पुलिस पदाधिकारी अपना नाम, पहचान और पता देने के लिए बाध्य नहीं कर सकते हैं, यदि कोई गुड सेमेरिटन पुलिस थाने में स्वेच्छा से जाने का चयन करता है तो उससे बिना किसी अनुचित विलंब के एक तर्कसंगत और समयबद्ध  रूप से एक ही बार में पूछताछ की जाएगी. अगर गुड सेमेरिटन उस मामले में गवाह बनने का इच्छुक नहीं होता है तो उससे कोई पूछताछ नहीं की जाएगी.


यह भी पढ़े : 15 अगस्त के बाद खुलेंगे स्कूल-कॉलेज, मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक का ऐलान

अस्पताल के लिए दिए गए हैं ये निर्देश

 


यह भी पढ़े : भारत में बेकाबूहो रहा कोरोना, ब्रिटेन को पीछे छोड़ अब दुनिया का चौथा प्रभावित देश

किसी भी परिस्थिति में जख्मी व्यक्ति को निकटवर्ती सरकारी /निजी अस्पताल में लेकर आने वाले गुड सेमेरिटन से किसी भी तरह के रजिस्ट्रेशन शुल्क या अन्य संबंधित पैसे की मांग नहीं की जाएगी. यह मांग तभी की जा सकती है जब जख्मी व्यक्ति को लाने वाला व्यक्ति उसका संबंधी हो. परिवहन सचिव संजय अग्रवाल ने कहा कि गुड सेमेरिटन को उनके कार्यों के लिए प्रशासन द्वारा सम्मानित भी किया जाएगा.

क्या है गुड सेमेरिटन

 

सड़क हादसों में घायलों की मदद करने वालों के अधिकारों को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने 2016 में एक कानून बनाया जिसे नाम दिया गया था 'गुड सेमेरिटन लॉ'. इस कानून के तहत हादसे में मदद करने वालों को पुलिस कार्रवाई के तहत परेशान नहीं कर सकती.