नेपाली शराब के साथ कारोबारी गिरफ्तार, दर्जन से अधिक धंदेवाज भागने में सफल

नेपाली शराब के साथ कारोबारी गिरफ्तार, दर्जन से अधिक धंदेवाज भागने में सफल

सीतामढ़ी :- जिले के मेजरगंज थाना क्षेत्र स्थित इंडो नेपाल सीमा से शराब की तस्करी रुकने का नाम नहीं ले रही। रविवार को एक अभियान के तहत स्थानीय एस एस बी के द्वारा एक शराब कारोबारी के साथ एक बड़ी शराब की खेप को पकड़ने में कामयाबी हासिल किया है।


यह भी पढ़े : 600 किलोमीटर से साईकिल चला कर मेहसी पहुँचा युवक ।

बतादे कि लॉकडाउन से पहले तस्कर इस जगह से चार पहिया वाहन के माध्यम से नेपाली शराब की तस्करी करते थे।लॉक डाउन के वजह से शराब कारोबारी इस वक्त ग्रुप में पैदल चल कर अपनी धंधा को अंजाम देने में सफल हो रहे है। कारोबारी अपने शराब कि कारोबार को लेकर अब 10 किलोमीटर पैदल चलकर नेपाल पहुंच अपनी धंधा कराने में लगे हुए है रविवार की देर रात एक गुप्त सूचना के आधार पर बसबिट्टा एसएसबी ने बड़ी कार्रवाई की, तथा शराब कि नेपाली जखीरा की जखीरा के साथ एक कारोबारी को पकड़ने  जिसमें सफलता भी हासिल हुई परंतु अंधेरा का फायदा उठा कर दर्जन से अधिक तस्कर भागने में कामयाब भी रहा।

इसकी जानकारी देते हुए बसबिट्टा कैंप कमांडर इंस्पेक्टर गोविंद लाल ने बताया कि 3180 बोतल नेपाली सौफी शराब  इंडो - नेपाल सीमा के पिलर संख्या 337/14 के समीप से पकड़ा गया है। वही एक तस्कर जिसकी पहचान मुख्यालय पंचायत के मलाही गांव निवासी कैलाश महतो के रूप में की गई है।, उसे गिरफ्तार कर लिया गया। बताया कि गुप्त सूचना मिली थी कि नेपाल के अड़नाहा से बड़ी मात्रा में शराब भारतीय क्षेत्र में पहुंचने वाला है।


यह भी पढ़े : मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री रामचन्द्र के जन्मस्थली के साथ माता सीता की जन्मभूमि सीतामढ़ी का भी हो विकास।

जिस पर कार्रवाई करते हुए इंस्पेक्टर गोविंद लाल के साथ सहायक सब इंस्पेक्टर मोर सिंह, श्यामल मलिक, मुख्य आरक्षी ललित यादव, राजेश कुशवाहा सहित अन्य जवानों के साथ नाका लगाया गया। जैसे ही तस्कर भारतीय सीमा क्षेत्र में प्रवेश किया जवानों ने रोकने की कोशिश की पर तस्कर शराब की बोरी फेक भागने लगा। अधिक जलजमाव के कारण पानी में कूदकर तस्कर भाग निकला। जिसमें से मात्र एक को पकड़ लिया गया। जप्त शराब व तस्कर को आगे की कार्रवाई के लिए सोमवार को उत्पाद विभाग को सौंप दिया गया।